Wednesday, May 31, 2017

ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत हो चुकी है।
बादलों की आवन जावन भी चल रही है।
कहीं कहीं वर्षा रानी भी गरमी से त्रस्त लोगों को छुड़ाने आ पहूंची है ऐसे में आज हम ग्रीष्म त्रिभुज में समाविष्ट हंस पुच्छ (DENEB) नामक तारे की बात करेंगे

अगर रात्रि के नौ दस के करीब एक खूबसूरत ग्रीष्म त्रिभुज देखने मिलेगा।
जो अब एक और मौसम के लिए सुविधाजनक शाम के दृश्य में वापस आने के बारे में है। यह कोई अलग से तारक जुथ Constallation नहीं है परंतु यह एक तीन अलग तारामंडल में आये हुए तीन चमकदार सितारों से बना है। 1.हंस मंडल (Cygnus) के हंस पुच्छ (DENEB), 2. श्रवण मंडल (AQULA) के श्रवण (ALTAIR) और 3. वीणा मंडल (LYRA) के अभिजीत (VEGA) को मिलाकर सुन्दर त्रिकोण बनता है।
अब इस ग्रीष्म त्रिभुज सितारों में से एक जब आप डेनेब (हंस पुच्छ)को ध्यान से देखते हैं, तो आप अंतरिक्ष की एक महान दूरी पर देख रहे हैं। डेनेब की सटीक दुरी अब तक नहीं जानी शकी है, लेकिन स्वीकार्य दुरी लगभग 2,600 प्रकाश-वर्ष मानी गयी है। इससे डेनेब को सबसे दूर के सितारों में से एक के रूप में देखा जा सकता है जो हम अपनी आंखों से देख सकते हैं।


खगोलविदों को डेनेब की दूरी ठीक से क्यों नहीं पता? वास्तव में, इस तारे की दूरी के लिए अलग-अलग अनुमान हैं । अबतक की जानी गयी विकसीत  प्रक्रिया की यह एक झलक है, जिसमें खगोलविदों की टीमों या विभिन्न खगोलविद्  - उन्नत प्रौद्योगिकियों का उपयोग करते हैं - कुछ साल पहले जो कुछ भी सीखा था, इसमें सुधार करने का प्रयास करते हैं।


पास के सितारों के लिए दूरी खोजने के लिए खगोलविद लोग लंबन(PARALLAX) विधि का उपयोग करते हैं। लेकिन डेनेब पृथ्वी की सतह से सटीक लंबन माप के लिए बहुत दूर है।


डेनेब की दूरी के अनुमानों को विभिन्न तरीकों से प्राप्त किया गया है, जिनमें से कुछ सितारों के विकास के तरीके से संबंधित सैद्धांतिक मॉडल शामिल थे और इनमें से कुछ खगोलविद्दोंने सितारे के साइग्नस OB7  में डेनेब की सदस्यता को मानते हुए दुरी को नापने की कोशिष की थी। डेनेब के लिए सबसे महत्वपूर्ण आधुनिक दूर के माप 1990 के दशक में आया, जिसमें ईएसए (ESA) के पृथ्वी-परिक्रमण करना हिपपारकोस स्पेस एस्ट्रोमेट्री मिशन था। हिपपरकोस ने डेनेब पर एस्ट्रोमेट्रिक डेटा इकट्ठा किया। डेटा के शुरुआती विश्लेषण में लगभग 2,600 प्रकाश-वर्ष की दूरी तय की गई है।


तब से, खगोलविदों के विभिन्न समूहों ने हिपपारकस डेटा का फिर से विश्लेषण किया है। हम जानते हैं कि प्रत्येक आने वाले वर्ष के साथ कम्प्यूटर शक्ति मजबूत हो जाती है, जो विश्लेषण के लिए तकनीकों को बेहतर बनाने में मदद करती है। उदाहरण के लिए, उदाहरण के लिए, 2009 में Peer-Reviewed Journal of Astronomy and Astrophysics में प्रकाशित एक अध्ययन मे विश्लेषण की एक नई विधि का इस्तेमाल किया, जिसके परिणामस्वरूप डेनेब के लिए दूरी तय हुई जो कि व्यापक रूप से स्वीकृत मूल्य का केवल आधा हिस्सा था।


डेनेब की दूरी इतनी महत्व पूर्ण क्यों है? यह खगोलविदों के लिए मायने रखता है क्योंकि - अगर उन्हें नहीं पता कि स्टार कितना दूर है - वे अपने वास्तविक आकार, द्रव्यमान और ऊर्जा उत्पादन की सटीक संख्या प्राप्त नहीं कर सकते।


ईएसए (ESA) के पास अब एक दूसरा एस्ट्रोमेट्रिक सैटेलाइट है - जिसे पृथ्वी के चारों ओर की कक्षा में भेजा गया है जिसे गिया (GAIA) - कहा जाता है। इसका लक्ष्य पहले की तुलना में अधिक सटीकता के साथ सितारों की स्थिति और दूरी को मापना है, ऐसा  ईएसए का कहना है ।

सितंबर 2016 में सितारों के नए डेटा आये  मगर उसमे देनब के डेटा को रिलीज़ में शामिल नहीं किया गया था। संभवतः डेनेब के लिए एक नई दूरी का अनुमान अप्रैल 2018 के लिए गिया के दूसरे डेटा रिलीज में शामिल किया जाएगा।
और तब हम सटिकता से कह पाएंगे की हम कितनी दूर देख रहे है!!

विज्ञान अविरत विकास कर रहा है

- Narendra Gor
Astronomer Bhuj
+91 9428220472
Written article based on Earth Sky Updates


Narendra Gor
Kutch Amateur Astronomers Club
Balaji Hobby Center
Bhuj
Contact No +919428220472,
http://kutchastronomy.blogspot.com/

No comments:

Post a Comment